Bill Gates Biography in Hindi – बिल गेट्स की जीवनी और सफलता की कहानी

Bill-Gates-Biography in hindi-Microsoft Founder

एक महान कार्य को करने के लिए आपको एकाग्र या एकाग्रित होना जरुरी है। चाहे आपमें कितना भी योग्यता क्यों न हो , किसी भी कार्य को महान बनाने और ऊँचाई तक ले जाने के लिए आपको अपने ध्यान को एकाग्र करना बहुत जरूरी है। बिना आप एकाग्रित हुए ना आप महान हो सकते हैं और ना ही आपका लक्ष्य पूरा हो सकता है। जी हाँ ऐसा मैं नहीं कभी दुनियाँ के सबसे अमीर व्यक्ति रहे, Microsoft Company के संस्थापक बिल गेट्स का कहना है। ऐसे कुछ और बहुत रोचक विचार हैं जो हम आपको आगे बिल गेट्स की जीवनी के अंत में बताने वाले हैं। पहले हम इनके जीवनी को जानते हैं। तो चलिए आगे बढ़ते हैं। 

 पूरा नाम                           

 विलियम हेनरी गेट्स  ( बिल गेट्स  )                                                          

 जन्मस्थान

 सीऐटलवॉशिंगटन राज्यसंयुक्त राज्य अमेरिका

 जन्म तिथि 

 28 अक्टूबर, 1955

 आवास

 संयुक्त राज्य अमेरिका

 शिक्षा 

 ( 12 वीं के बाद केवल 2 साल, स्नातक नहीं हुए हार्वर्ड विश्वविद्यालय 

 काम काज

 माइक्रोसॉफ्ट के अध्यक्ष बिल एंड मेलिंडा गेट्स फाउंडेशन के सह अध्यक्ष

 बिल गेट्स की कमाई

 US$99.5 billion (April 2020)

 माता

 मैरी मैक्सवेल गेट्स

 पिता

 बिल गेट्स सीनियर (Bill Gates Sr.)

 पत्नी

 मेलिंडा गेट्स 

 बच्चे

 तीन ( दो लड़की एक लड़का )

 बच्चों के नाम

 जेनिफर कैथरीन गेट्स, फोवे अडले गेट्स, रोरी जॉन गेट्स

 वेबसाइट

 www.gatesnotes.com

                बिल गेट्स का बचपन (Bill Gates’s Childhood)

बिल गेट्स का पूरा नाम विलियम हेनरी गेट्स है। बिल गेट्स का जन्म 28 अक्टूबर 1955 को वाशिंगटन के सिएटल में हुआ था। उनके पिता भी शिक्षित पुरुष थे।उनके पिता विलियम एच गेट्स एक Sr. वरिष्ठ वकील थे। बिल गेट्स की माता मेरी मेक्सवेल गेट्स भी एक प्रमुख बैंक के लिए Executive के रूप में काम करती थी। बिल गेट्स की दो बहने भी हैं एक का नाम Kristainne और दूसरे का नाम Libby है। जैसे हर बच्चों को अपने माँ के साथ ज्यादा लगाव होता है उसी प्रकार बिल गेट्स को भी अपनी माँ के साथ बहुत लगाव और करीबी रिस्ता था। उनकी माँ मेरी मेक्सवेल गेट्स बहुत ही नेक दरिया दिल इंसान थी। वो अपने बचे हुए समय को खाली-बेकार नहीं जाने देती थी। वो अपने बचे समय को बचो को नेक रास्ते पे आगे बढ़ने के लिए वो बचो को प्रोत्साहन मोटीवेट करने सामाजिक मतभेदों को दूर करने और दान – पुण्य में समर्पित कर देती थी। बिल गेट्स के माता पिता को उनके अपने बच्चे पर भी विश्वास था की बिल गेट्स भी उनके नक्सेकदम पर आगे भढ़ते चलेंगे। 

बिल गेट्स पढाई लिखाई (Bill Gates’s Education)

बिल गेट्स शुरुआत से ही पढ़ने में काफी अच्छे थे। उनको विश्वकोश (Encyclopedia) में ज्यादा रूचि थी। वे विश्वकोश (Encyclopedia) पर कई – कई घंटे बिताते थे।  वो स्कूल में भी अच्छा प्रदर्शन किया करते थे। उन्होंने गणित के लिए एक विशेष योग्यता विकसित कर लिया और आगे जाकर कंप्यूटर प्रोग्रामिंग के उभरते विज्ञानं की ओर मुर गया। 
उनके माता पिता १३ साल के उम्र में बिल गेट्स को Seattle Lakeside School में दाखिला करा दिए, ताकि बिल गेट्स पढाई के साथ – साथ अन्य चीजों में भी रूचि ले सके। और फिर वही हुआ बिल गेट्स वहां पर नाटक और अंग्रेजी में भी अच्छा करने लगे। और फिर वहीं पर उनको कंप्यूटर के बारे में पहली बार पता चला और कंप्यूटर के बारे में ज्ञान जानकारी लेने लग गए। धीरे – धीरे बिल गेट्स की रूचि कंप्यूटर में ज्यादा बढ़ने लगी और वे फिर ज्यादातर समय कंप्यूटर के साथ ही बिताना सुरु कर दिए और वे यह सोचते रहते की आखिर कंप्यूटर काम कैसे करता है। 
जब इस बात से परिचित वे हो गए की एक कंप्यूटर क्या – क्या कर सकता है, तब वे अपने खाली समय का अधिकांश समय टर्मिनल (टर्मिनल शब्द, प्रारंभिक कंप्यूटर सिस्टम से आता है जिसे अन्य कम्प्यूटरों  को कमांड भेजने के लिए उपयोग किया जाता था ) पर काम करने में लगाते थे।
उन्होंने एक कंप्यूटर की बेसिक भाषा में  टिक – टैक – टो ( Tic – Tac – Toe ) बनाया, जो उपयोग कर्ताओं को कंप्यूटर के खिलाफ खेलने की अनुमति देता था। 

Bill Gates and Allen Paul Freindship.jpg

एक दिन ऐसा आया की बिल गेट्स की मुलाकात उनकी तरह ही टैलेंटेड बच्चा पॉल एलन से हुई, जी हाँ बिल गेट्स को मिली अपनी सफलता में इनका दोस्त पॉल एलन का भी बहुत  बड़ा योगदान रहा है।
बचपन में बिल गेट्स की मुलाकात कंप्यूटर क्लास में पॉल एलन से हुई। पॉल एलन, बिल गेट्स से २ साल बड़े थे। इसके बावजूद दोनों का रूचि कंप्यूटर में होने के कारन वे एक दूसरे के अच्छे दोस्त बन गए। और फिर वे दोनों ही ज्यादातर वक्त लैब में ही बिताने लगे। कभी – कभी वे दोनों एक दूसरे के विचार पर असहमत होते थे। और इस बात को लेकर बहस करने लग जाते थे। इस बात को लेकर बहस करने लगते की कौन सही है या किसे कंप्यूटर लैब चलना चाहिए।

कहते हैं की एक बार ऐसा हुआ की उन दोनों का बहस इतना बढ़ गया की एलन ने गेट्स को कंप्यूटर लब से प्रतिबंधित कर दिया। वे दोनों सरारती भी काफी थे। कभी -कभी वे दोनों कंप्यूटर सिखने के दौरान software से छेड़ – छार कर देते थे। जिसके कारन उनपर वहां जाने से रोक लगा दी गयी थी। लेकिन फिर उन्ही के द्वारा आश्वासन दिए जाने पर की वे अब ऐसा कुछ नहीं करेंगे , तो फिर से उन्हें वहां जाने की अनुमति मिल गई। 
साल १९७० में बिल गेट्स अपने दोस्त एलन के साथ मिलकर “Traf – O – Data” नाम से एक प्रोग्रामिंग बनाई। जिसका उद्येस्य था सरक मार्ग यातायात काउंटर से प्राइमरी डाटा को पढ़ना और यातायात इंजीनियरों के लिए रिपोर्ट बनाना। और उन्हें इस प्रयास के लिए $२०००० मिले थे। 

बिल गेट्स और पॉल एलन अपनी खुद की कंपनी करना चाहते थे, लेकिन गेट्स के माता पिता चाहते थे , कि वे पहले स्कूल ख़त्म करके कॉलेज जाएँ। उनके माता – पिता चाहते थे कि गेट्स एक अच्छा वकील बनें। इसीलिए बिल गेट्स अपनी स्कूली पढाई पूरी करने के बाद आगे कि पढाई के लिए हारवर्ड यूनिवर्सिटी (Harvard University) में लॉ कि पढाई के लिए दाखिला लिया। लेकिन बिल गेट्स को कंप्यूटर में ज्यादा रूचि था लॉ कि पढाई में उनको ज्यादा रूचि नहीं थी और इसीलिए वे ज्यादा समय कंप्यूटर के ऊपर बिताते थे।

इनका दोस्त पॉल एलन उनसे अलग यूनिवर्सिटी में पढ़ने के लिए चले गए। पॉल एलन ने २ साल बाद ही यूनिवर्सिटी छोर दिया और एक कंपनी जिसका नाम था Honeywell ज्वाइन कर लिया। 
बिल गेट्स को  भी वकालत की पढ़ाई में मन नहीं लग रहा था। उन्होंने माता – पिता की बात को रखने के लिए उन्होने Law में Admission ले लिया था। फिर कुछ वक्त निकलने के बाद 1974 में बिल गेट्स ने भी बिना Graduation किये ही University छोर दिए और इन्होने भी Honeywell Company ज्वाइन कर ली।
इसी दौरान फिर, जब दो दोस्त मिले, तो फिर एक अच्छी कर्माति दिखाई। पॉल ने बिल गेट्स को एक फेमस मैगज़ीन इलेक्ट्रॉनिक के एक आर्टिकल दिखाया , जो एक अल्टेयर 8800 मिनी कंप्यूटर किट के ऊपर आधारित था। गेट्स को को ये आर्टिकल अच्छा लगा और फिर दोनों दोस्त मिलके  कंपनी से कांटेक्ट किया और बताया की हम एक प्रोगरामिंग पर काम कर रहें हैं जो की एक Altain को चलाएगा। जबकि उनके पास कोई सॉफ्टवेयर था ही नहीं। वे सिर्फ ये जानना चाहते थे की कंपनी को इसकी जरुरत है की नहीं। लेकिन कंपनी ने स्वीकार कर ली इनकी बातों को और सॉफ्टवेयर टेस्ट के लिए बोला आने के लिए, तो दोनों दोस्तों ने 2 महीने का टाइम माँगा और कम्पलीट करके पेश किया। सॉफ्टवेयर अच्छी तरह से काम करने लगा। 

बिल गेट्स और एलन पॉल दोनों बुद्धिमानी का परिचय देते हुए एक कदम और आगे बढे और फिर 4 अप्रिल 1975, को माइक्रोसॉफ्ट कंपनी Microsoft Company की स्थापना की। गेट्स कंपनी  की तरफ बढ़ने के लिए बहुत मेहनत करते थे। वे Coding का Error  खुद ही सोल्वे करते थे।
बिल और एलेन ने पहले बेसिक नाम के प्रोग्राम को बनाया जो की माइक्रो कंप्यूटर की प्रसिद्ध प्रोग्रामिंग लैंग्वेज है। यह कोशिश सफल रही फिर उन्होंने दूसरे सिस्टम के लिए भी काम किये। बिल गेट्स की माइक्रोसॉफ्ट आसमान छूने लगी। करीब पांच साल में माइक्रोसॉफ्ट दुनिया की नजर में आने लगी।

कंपनी इतनी तेजी से आगे बढ़ रही थी की 1980 में ( IBM ) इंटरनेशनल बिजनेस मशीन को एक ऑफर मिला जिसमें माइक्रोसॉफ्ट से कहा गया की वे उनके आने वाले पर्सनल कंप्यूटर के लिएBASIC Interpreters” लिखें।Microsoft द्वारा IBM के लिए PC DOS नामक ऑपरेटिंग सिस्टम तैयार किया और जिसकी फ़ीस IBM द्वारा  $50,000 दी गयी थी जो की उस समय की बहुत ज्यादा राशी है। 

बिल गेट्स का विवाह जीवन : Bill Gates Marriage Life in Hindi

बिल गेट्स का निजी जीवन (Bill Gates personal life) बिल गेट्स की शादी फ़्रांस में रहने वाली मेलिंडा से सन् 1994 में हुई। इंट्रेस्टिंग की बात ये है की जिनसे इनकी सादी हुई वो इन्ही की कंपनी Microsoft में product manager के रूप में कार्य कर रही  थी।
Bill Gates and his wife melinda french.jpg

1987 में बिल गेट्स Melinda French से मिले और बराबर मिलते रहे, धीरे – धीरे दोस्ती हुई ,  समय के साथ –  साथ  वो दोनों और करीब आते गए फिर दोस्ती प्यार में बदली। जब बिल गेट्स Bill  Gates 38 साल के थे, तब 29 साल की अपनी गर्ल फ्रेंड मेलिंडा फ्रेंच से 1 जनवरी 1994 को बिल ने सादी की।
1996 में,  जेनिफर गेट्स ( Jennifer Gates ) का जन्म हुआ। उसके बाद 1999 में उनके बेटे, रोरी जॉन गेट्स (Rory John Gates ) का जन्म हुआ था। फिर उसके बाद 2002 में  उनकी दूसरी बेटी फोएबे अडेले गेट्स (Phoebe Adele Gates ) का जन्म हुआ था।

Bill Gates Family.jpg


अभी बिल गेट्स अपने परिवार के साथ वासिंगटन में झील के किनारे 55,000 वर्ग फिट, जिसकी कीमत 54 मिलियन डॉलर लगभग है, उसमे रहते हैं। कहा जाता है की उनका घर एक व्यापार केंद्र के रूप में कार्य करता है।

Personal Wealth of Bill Gates

पर्सनल कंप्यूटर के 90% शेयर विंडोज के नाम हो गए थे। Microsoft Company ने बहुत प्रतिष्ठा हासिल की, माइक्रोसॉफ्ट का एक बहुत बड़ा शेयर बिल गेट्स का था जिसकी वजह से उन्हें बहुत आय अर्जित हुई थी।

मार्च 1986 में गेट्स ने 21 डॉलर प्रति शेयर के आरंभिक सार्वजनिक निगम ( IPO) के साथ माइक्रोसॉफ्ट को सार्वजनिक किया जिसने गेट्स को 31 साल की उम्र में तत्काल करोड़पति बना दिया। बिल गेट्स के पास कंपनी के 24.7 मिलियन शेयरों में से 45 प्रतिशत हिस्सा था। कहा जाता है उस समय उनको हिस्सेदारी माइक्रोसॉफ्ट के 520 मिलियन डॉलर  में  234 मिलियन डॉलर थी।

जब स्टॉक 90.75 डॉलर प्रति शेयर था, 1987 में, गेट्स अरबपति बन गए थे। तब से, आज तक गेट्स संयुक्त राज्य अमेरिका में शीर्ष 400 सबसे आमिर लोगों की फ़ोर्ब्स की वार्षिक सूचि में शिर्ष पर या काम  से – काम पर रहे हैं। बिल गेट्स 11 साल के अपने अनुभव के चलते दुनिया में सबसे अमीर आदमी बन गए।

सन् 1989 में माइक्रोसॉफ्ट ने माइक्रोसॉफ्ट ऑफिस जिसे संक्षिप्त में MS Office कहा जाता है ,अपना ऑफिस खोला जिसमें एक पैकेज था। उस पैकेज में बहुत सारी एप्लीकेशन जैसे माइक्रोसॉफ्ट वर्ड, एक्सेल, एक्सेस, पावर पॉइंट ,  ऐसे और अनेक, जो एक साथ एक ही सिस्टम में चलाया जा सकता हैं। माइक्रोसॉफ्ट की ये क़्वालिटी  खूबी इतनी मशहूर हुई की पर्सनल कंप्यूटर पर एकाधिकार कर लिया।

जैसे आपको पता है की सन् 1990 में इंटरनेट का प्रचलन हुआ था। उस समय बिल गेट्स माइक्रोसॉफ्ट में लगे हुए थे और माइक्रोसॉफ्ट के विकास में पूरा ध्यान दे रहे थे ताकि वे अपने उपभोक्ता को इंटरनेट द्वारा अच्छा समाधान दे सके। Windows CE Operating System Platform ‘एवं दी माइक्रोसॉफ्ट नेटवर्क (The Microsoft Network) उस समय के महान डेवलपमेंट में से एक थे।

अभी बिल गेट्स के पास 101 बिलियन डॉलर है। 1999 में, आल टाइम हाई पर स्टॉक की कीमतों के साथ और अपने आईपीओ के बाद से स्टॉक को 8 गुना विभाजित करने के बाद।

सन् 2000 में बिल गेट्स ने अपनी कंपनी माइक्रोसॉफ्ट में सीईओ (CEO) के पद से इस्तीफा तो दे दिया था मगर आज भी वे चेयरमैन के पद पर उपस्थित हैं। माइक्रोसॉफ्ट की कम्पनी में एक नया पद “चीफ सॉफ्टवेयर आर्किटेक्ट” बना लिया था।
बिल गेट्स दिल के बहुत बड़े दानी हैं , वे बहुत ही नेक और मददगार इंसान हैं। उन्होंने बहुत दान किये हैं अपनी माइक्रोसॉफ्ट के सिवा वे परोपकारी कामों में बहुत ध्यान दिया है।

सन् 2014 में फरवरी के महीने में बिल ने चेयरमैन पद से भी छुट्टी ले ली और माइक्रोसॉफ्ट के सीईओ “सत्या नदेला” के टेक्नोलॉजी एडवाईजर के रूप में काम करने लगे। बिल गेट्स आज भी दुनिया के अमीर लोगों में शामिल हैं।

बिल एंड मेलिंडा गेट्स फाउंडेशन की शुरुआत

सन् 2000 में बिल गेट्स ने अपनी पत्नी मेलिंडा गेट्स के साथ मिलकर बिल एंड मेलिंडा गेट्स फाउंडेशन BMGF (Bill and Melinda Gates Foundation) की नींव रखी जो कि पारदर्शिता से संचालित होने वाला विश्व का सबसे बड़ा चैरिटेबल फाउंडेशन Charitable Foundation है।उनका यह फाउंडेशन ऐसी समस्याओं के लिए कोष दान में देता था जो सरकार द्वारा नज़र अंदाज़ कर दी जाती थी जैसे कि कृषिकम प्रतिनिधित्व वाले अल्पसंख्यक समुदायों के लिये कॉलेज छात्रवृत्तियांएड्स जैसी बीमारियों के निवारण हेतुइत्यादि। 

बिल गेट्स द्वारा दिए गए सहयोग

गेट्स की संस्था  बिल ऐंड मेलिंडा गेट्स फाउंडेशन जिसके जरिए वो असहाय लोगों की मददतो करते है ही साथ में अन्य प्रकार के संस्थानों के जरिए भी वो दान पुण्य करते रहते हैं। 
माइक्रोसॉफ्ट के संस्थापक बिल गेट्स ने कहा है कि Bill & Melinda Gates Foundation (BMGF) दुनियाभर में कोरोना वायरस से निपटने में प्रतिबद्ध है।

हाल ही में सोशल मीडिया पर गेट्स ने कोरोना वायरस से निपटने के लिए 100 मिलियन डॉलर (751 करोड़ रुपए) की मदद देने की घोषणा की थी।
बिल गेट्स ने कहा कि उनका फाउंडेशन दुनियाभर में कोरोना की दवा और टीका विकसित करने वालों के साथ मिलकर काम कर रहा है। मौजूदा समय में संक्रमण के ज्यादातर मामले अमीर देशों में हैं।

बिल गेट्स ने अपने शहर वाशिंगटन के लिए 50 करोड़ रुपया देने की घोषणा की।बिल गेट्स ने कहा की उन्हें इस वायरस को रोकने के लिए सही ढंग से काम करना चाहिए।बिल गेट्स का मानना है कि अगर किसी भी देश को उनकी जरूरत दिखी तो वो मदद करने से पीछे नहीं हटेंगे।

गेट्स ने कहा कि हम चाहते हैं कि सभी देशों को कोरोना से बचाव के उपकरण उपलब्ध हों।हमने फरवरी में कई चीजों के लिए 1000 करोड़ रुपए दिए थे और ऐसा करते रहेंगे।हमारी प्राथमिकता है कि दवा और टीका निर्माण की क्षमता पर्याप्त होताकि वह ज्यादा से ज्यादा लोगों के मददगार साबित हो सके।

बिलगेट्स के दान पुण्यके काम

सन्1999 में बिल गेट्स ने एम आईटी (MIT) कॉलेज को कंप्यूटर लैबबनाने के लिए 20 मिलियनडॉलर दान में दिए थे। जिस लैब का नामविलियमएच गेट्स बिल्डिंगरखा गया है।
 
सन्2000 में बिल गेट्स ने अपनी पत्नीके साथ मिलकरबिल एंड मेलिंडा गेट्स फाउंडेशनका निर्माण करवाया।इस फाउंडेशन का नाम दुनियाके सबसे बड़ी प्राइवेट फाउंडेशन में आता है, जिसका उद्देश्य समाज में लोगों के स्वास्थ्य मेंवृद्धि और दुनिया भरमें अत्यधिक गरीबी को कम करनाहै।
 
सन्2010 में बिल गेट्स ने मशहूर व्दुनिया के सबसे अमिरआदमियों में से एकवॉरेनबफेटऔर फेसबुक केफाउंडर, सीईओ मार्क जुकरबर्ग के साथ एकसमझौता किया, जिस समझौते में वे अपनी कमाईका आधा हिस्सा दान में दिया करेंगे। फेसबुक के कोफाउन्डरमार्क से मिलने केबाद, पहली बार बिल गेट्स ने फेसबुक परअपना अकाउंट बनाया था इससे पहलेवे सोशल मिडिया पर नहीं थे।
 

बिलगेट्स की महत्वपूर्ण और  अनजानीबातें

  • चाहेआपमें कितनी भी योग्यता क्यों हो, केवल एकाग्रचित्त होकर ही आप महानकार्य कर सकते हैं।
  • मात्र13 वर्ष कि उम्र मेंही अपना पहला कंप्यूटर प्रोग्राम टिकटैकटो बनाया।
  • मैंएक कठिन काम को करने केलिए एक आलसी इंसानको चुनुंगा क्योकि आलसी इंसान उस काम कोकरने का एक आसानतरीका खोज लेगा।
  • Bill Gates केस्कूल को, जब Gates की कोडिंग क्षमताओंके बारे में पता चला, तो उन्होंने उन्हेंकक्षाओं में छात्रों को बैठने कीशेड्यूल करने के लिए, स्कूलोंके कंप्यूटर प्रोग्राम को लिखने केलिए दिया। गेट्स ने कोड कोबदल दिया ताकि उन्हें कक्षाओं में उनकी मनपसंद लड़कियों के साथ बैठनेमौका मिल जाय।
  • बिलगेट्स का बचपन काप्यारा नामट्रेथा।
  • सन्1977 में न्यू मैक्सिको में लाइसेंस के बिना हीगाड़ी चलाने पर पुलिस नेउन्हें गिरफ्तार कर लिया था।
  • फेसबुकके कोफाउन्डर मार्कसे मिलने के बाद, पहलीबार बिल गेट्स ने फेसबुक परअपना अकाउंट बनाया था। इससे पहले वे सोशल मिडियापर नहीं थे।
  • यदिमाइक्रोसॉफ्ट कम्पनी असफल होती तो बिल गेट्सआर्टिफिशियल इंटेलिजेंस में एक खोजकर्ता होते।
  • विद्यालयमें शिक्षा ग्रहण करते हुए ही उन्होंने कंप्यूटरप्रोग्राम बनाकर 4,200 डॉलर कमा लिए।
  • सन्2007 में HARVARD UNIVERSITY द्वारा बिल गेट्स को हौनर कीडिग्री से सम्मानित कियागया। HARVARD UNIVERSITY बिल गेट्स ने अपनी पढाईके बीच में ही छोड़ दियाथा।
  • सन्1994 में लियोनाद्रो विंसी द्वारालिखित पेजों का कलेक्शनकोडेक्सलेस्टरको बिल गेट्सने 30.8 मिलियन डॉलर में, एक नीलामी मेंखरीदा था।
  • बिलगेट्स को इस बातका दुःख था की उन्हेंकिसी अन्य देश की भाषा नहींआती।
  • बिलगेट्स ने अपने बच्चोको केवल 10 मिलियन डॉलर ही दिए हैं।उसके बाद बची हुई संपत्ति नहीं दी जाएगी।
  • बिलगेट्स की पसंदीदा किताबबिजनेस एडवेंचर” BUSINESS ADVENTURE है।
  • बिलगेट्स हर साल भारत कर भारत केगरीबों के लिए महत्वपूर्णकार्य करते हैं।
  • गेट्सने अपने SAT के एग्जाम में1600 में से 1590 अंक हासिल किया। SAT संयुक्त राज्य अमेरिका में कॉलेज प्रवेश के लिए व्यापकरूप से उपयोग कियाजाने वाला एक Standardized Test है।
  • मैंपरीक्षा में कुछ विषयो में फ़ैल हो गया। औरमेरे सभी दोस्त पास हो गये !अबवे माइक्रोसॉफ्ट कम्पनी में इंजीनियर है और मैमाइक्रोसॉफ्ट कम्पनी का मालिक हूँ।

 

0Shares

Leave a Reply

Your email address will not be published.