conformational isomerism-Rotational Isomerism

गठनात्मक – चक्रण समरूपता/समावयवता हिंदी में

कार्बन यौगिक में कार्बन परमाणुओं के बिच सिंगल बॉन्ड (Single Bond) की उपस्थिति के कारण रोटेशनल से परमाणु या परमाणु के समूह के विभिन्न त्रिविमीय व्यवस्था (सजावट) से प्राप्त विन्यास को Conformational Isomerism या Rotational Isomerism कहा जाता है।

जैसे की ,   C2H6 
smartknowledgesk.com

Staggered Form, Eclipsed Form से अधिक स्टेबल होता है। क्योकि इसमें हाइड्रोजन परमाणु एक दूसरे से काफी दूर रहता है। जिसमे मिनिमम इंटरेक्शन होता है।

0Shares

Leave a Reply

Your email address will not be published.