Jack Ma Biography In Hindi – Alibaba Founder Jack Ma’s Biography

अगर आप जीवन में कुछ बारे करना चाहते हैं और एक सफल इंसान बनना चाहतें हैं , तो सफलता को हासिल करने के लिए असफल व्यक्तियों की कहानी को पढ़ कर, उन कहानियों से सिख कर आगे बढ़ेंगे तो आप जरूर सफल होंगे। आप हमेशा अपना निर्णय भविष्य को देखकर लें। हम अपने अंदर काम करने वाले एम्प्लोयी का विश्वास, आदर , सम्मान और प्रोत्साहित करके मोटीवेट कर सकते हैं। और इस तरह से आगे बढ़ते हुए हम अपने सपन या ड्रीम को पूरा कर सकते हैं। जी हाँ ऐसा मै नहीं कह रहा हूँ। ऐसा ये चौथी में चार बार फेल चीन के अरब 
पति जैक मा कहना है। जैक मा अलीबाबा डॉट कम के को-फाउंडर और चेयर मैन हैं।

जैक मा का प्रारम्भिक जीवन – Early Life of Jack Ma

दुनिया के प्रमुख बिजनेसमेन में शामिल अलीबाबा ग्रुप के संस्थापक Jack Ma ( जैक मा ) का जन्म 10 सितम्बर 1964 को चीन के छोटे से गाँव हन्ग्ज़्हौ, ज्हेजिंग, में हुआ था। जैक मा का बचपन का नाम या पारिवारिक नाम यूँ था। उनका एक बड़ा भाई और एक छोटी बहन है। जैक मा के पिता का नाम मा लाइफा और उनकी माता का नाम कई वेंकाई है।
जैक मा के स्कूल कॉलेज के समय चीन में अंग्रेजी भाषा को दर्शन और बोलना ज्यादा उत्तरदायित्व नहीं समझा जाता था। जैक मा को बचपन से ही अंग्रेजी बोलने और सीखने का बहुत मन था। इसीलिए वो Hangzhou International Hotel में एक साईकिल से जाते थे वहां पर विदेशी नागरिक आया जाया करते थे। वहाँ जैक मा होटल के लोगों से टूटी – फूटी अंग्रजी भाषा में बात करते थे। और ऐस करते – करते जब धीरे – धीरे कुछ अंग्रेजी बोलने सिख गए तो, उन्होंने दूसरे देशों से आने वाले विदेशी पर्यटकों के लिए एक टूरिस्ट गाइड के रूप में काम करने लग गए। और फिर कुछ ही दिनों में उनकी अंग्रेजी काफी अच्छी हो गयी।
Jack Ma Biography In Hindi - Alibaba Founder Jack Ma's Biography
Jack Ma – जैक मा ने टूरिस्ट गाइड का काम नौ साल तक बहुत धैर्य पूर्ण के साथ किया था। उसी दौरान एक 
विदेशी लड़की से मिले जिसने उन्हें जैक मा का उपनाम दिया। जैक मा का असली नाम यूँ था। जो की चीनी भाषा में विदेशी पर्यटकों को बोलने में थोड़ी कठिनाई होती थी। इसीलिए उनका नाम जैक मा रख दिया। और फिर तभी से लोग यूँ को जैक मा के नाम से जानने लग गए। उसके बाद जैज मा ने नौकरी ढूँढना सुरु किया।

जैक मा के शिक्षा और संघर्षमयी जीवन – Jack Ma’s Education and Struggling Life

बचपन से ही जैक मा संघर्षमयी जीवन जी रहे थे और असफल हो रहे थे। वे चौथी में चार बार और ८ वीं में दो बार स्कूल में फेल हो गए थे। वह अपने हाई स्कूल के बाद विश्वविद्यालय में प्रवेश परीक्षा काआवेदन करते समय तीन बार विफल रहे। उसके बाद Hangzhou Dianzi  University जो एक साधारण सा विश्वविद्यालय था, उसमे जैक ने अंग्रेजी माध्यम से नामांकन लिया।
जिस वर्ष जैक मा ने ग्रेजुएशन कम्पलीट किया था उस वर्ष 500 विद्यर्थियों ने उनके विश्वविद्यालय से ग्रेजुएशन कम्पलीट किया था। ग्रदुतिओं कम्पलीट करते ही उन 500 विद्यार्थियों में से 499 विद्यार्थियों को मिडिल स्कूल में पढ़ने के लिए भेजा गया था।केवल जैक मा को ही अपने ही विश्वविद्यालय में पढ़ाने का मौक मिला था। क्योकि उनको डिग्री मिनले से पहले ही अंग्रेजी के शिक्षक थे।
उस यूनिवर्सिटी के प्रेजिडेंट ने जैक मा को 5 वर्ष तक अंग्रेजी पढ़ाने के लिए वादा करवाया था और जैक मा ने वादा करके निभाया भी, उन्होंने पुरे 5 साल तक धैर्य के साथ काम किया। उस यूनिवर्सिटी में पढ़ाने के लिए जैक मा को १० डॉलर प्रति माह के हिसाब से सैलरी मिलती थी। जिस विश्वविद्यालय में वो पढ़ाते थे वहां जैक मा उस विश्वविद्यालय के बेस्ट शिक्षक में से एक चुने गए थे। पांच साल पढ़ाने के बाद जैक मा विश्वविद्याला छोर दिए और उसके बाद जैक ने हार्वर्ड यूनिवर्सिटी में दस बार आवेदन किया लेकिन वहां उनको रिजेक्ट कर दिया गया। और इतना ही नहीं स्नातक के बाद उन्होंने ३० जगहों पर नौकरी के लिए आवेदन किया, वहाँ भी उनको रिजेक्शन ही मिला।
जब KFC के एफ सी चीन में आया तब जैक मा सहित २४ लोगो ने नौकरी के लिए आवेदन किया था, जिसमे से २३ लोगो को सिलेक्शन हो गया और एक मात्र जैक मा को सिलेक्शन नहीं हुआ था। फिर उन्होंने पुलिस में भी अप्लाई किया, वहाँ भी उनको ये कहकर रिजेक्ट कर दिया की आप इस काम के लायक नहीं है। तो इससे आप समझ सकते हैं की जैक मा ने कितना संघर्षमयी जीवन जीया है। कितना संघर्ष इन्होने किया था।

जैक मा को इंटरनेट का पता कैसे चला ? How Did Jack Ma Know The Internet?

जैक मा ने अमेरिका में अपने दोस्त से पहली बार इंटरनेट के बारे में जाना और इंटरनेट को कैसे प्रयोग करते हैं, उन्होंने सीखा था। जैक मा ने एक कंपनी खोली थी जो एक ट्रांसलेशन का काम करती थी। उस समय तब चीन के लोगों को इंटरनेट के बारे में बहुत कम जानकारी थी। जैक मा अपनी कम्पनी जो की एक ट्रांसलेशन का काम करती है के लिए ही अमेरिका गए थे। वहाँ वे अपने दोस्त स्टुअर्ट से मुलाकात हुई।  स्टुअर्ट ने जैक को पहली बार इंटरनेट के बारे में बताया, और बोलै की जैक तुम इंटरनेट से जो चाहो सर्च कर सकते हो, जैक हैरान हो गया यह सुनकर उनको विश्वास नहीं हो रहा था। वे कहने लगे की ऐसे कैसे हो सकता है, तो उनके दोस्त ने कहा कोशिस करके देख लो, तब जैक ने इंटरनेट का प्रयोग किया और पहला वर्ड उन्होंने भालू यानी जिसे हम अंग्रेजी में बियर कहते हैं सर्च किया।
उन्हें Beer से संबधित कई जानकारी अलग अलग देशो से प्राप्त हुई लेकिन वो ये देखकर चौक गये कि उस सर्च में चीन का नाम कही नही था।अगले बार उन्होंने चीन के बारे में सामान्य जानकारी ढूंढने की कोशिश की लेकिन फिर वो चौक गये कि चीन को कोई जानकारी इन्टनेट पर उपलब्ध नही थी। फिर जैक माँ ने सोचा और दोस्तों  के साथ विचार किया, और सभी दोस्तों के साथ मिलकर एक वेब पेज बनाया, जो की उतना अच्छा दिखने में नहीं था। उस वेबसाइट को लांच होते ही पाँच घंटों बाद से ही मेल आना सुरू हो गया। वे लोग जैक मा के साथ मिलकर काम करना चाहते थे। जैक मा को यह सब देख सुन कर काफी अच्छा लगा और वही से उनके जीवन का टर्निंग Point सफलता के की ओर ले गया। 

China Yellow Pages कब बना ? When did China Yellow Pages Become ?

वर्ष 1995 में जैक मा उनकी पत्नी और उनके करीबी दोस्त क्कुह और कुछ दोस्तों ने मिलकर कुछ पैसे जमा किये और एक वेबसाइट बनाने की कंपनी शुरू की थी जिसका नाम उन्होंने रखा China Yellow Pages.
इस कंपनी को शुरू करने के लिए सभी दोस्तों ने मिल कर लगभग डॉलर 20000 जमा किये थे। इस कंपनी से 3 साल के अंदर 3 लाख डॉलर का मुनाफा हुआ था। इस कंपनी का मुख्य काम था कंपनियों के लिए वेबसाइट बनाना। बाद में जैक मा की टीम ने चीनी कंपनियों  के लिए भी वेबसाइट बनाना सुरू कर दिए। जैक मा ने अपने 33 वर्ष की आयु में अपना पहला कंप्यूटर ख़रीदा था।
Jack Ma का कहना था की जब वे अपने दोस्तों के साथ वेबसाइट बनाने का काम करते थे तो उन्हें टीवी और ताश खेलना पड़ता था। ऐसा इसलिए क्योंकि उस समय का इन्टरनेट स्पीड इतना स्लो हुआ करता था की अधा पेज बनाने में 3 से 4 घंटे लग जाते थे।
साल 1998-1999 में China International Electronic Commerce Center द्वारा स्थापित एक IT कंपनी में भी काम किया पर उसके बाद वे वहां से काम छोड़ कर अपने 17 दोस्तों की टीम के साथ दोबारा अपने जन्म स्थान Hangzhou लौट आये।

अलीबाबा कंपनी की शुरुआत – Alibaba Company Start

जैक मा अपने घर बैठे अपने 17 दोस्तों के साथ मिलकर सबसे पहले अपना B to B eCommerce वेबसाइट की शुरुवात की थी। Jack Ma कहते हैं कि, वो एक कॉफ़ी शॉप में बैठे थे जिसका नाम San Francisco था, तो उन्होंने शॉप के एक Waitress से पुछा – क्या तुम अलीबाबा के विषय में जानते हो ? तो जवाब आया खुल जा सिम-सिम। उसके बाद उन्होंने कई भारतीय, अमरीकी और अन्य देशों के लोगों से भी वही सवाल पुछा तो उन्होंने पाया कि सभी लोगों को Alibaba के विषय में पता था।  बस उसके बाद उन्होंने अपनी कंपनी को Alibaba Groups के नाम से शुरू किया। उनको अपनी वेबसाइट का नाम Alibaba रखने का मन पहले से ही था। इसीलिए कॉफ़ी शॉप में बैठे सभी लोगों से जानने की कोशिस की थी।
फिर क्या था, उसके बाद जैक ने अपने 17 दोस्तों के साथ 60000 डॉलर इकठ्ठा कर निवेश करके अलीबाबा कंपनी की स्थापना की। Alibaba Groups ने पुरे विश्व भर में अपना नाम बना लिया और 240 देशों से भी ज्यादा अधिक देशों में इसका कारोबार शुरू हो गया। कहा जाता है कि साल 2014 September महीना के आंकड़ों के अनुसार Alibaba कंपनी ने New York Stock Exchange के अनुसार $ 25 Billion  ड़ॉलर की कंपनी खड़ी कर दी जो की एक बहुत बड़ी सफलता थी।
10 September 2017 Forbes के Report के अनुसार जैक मा  की कुल कमाई 37.6 Billion USD हो गयी थी। 2017 के report  के अनुसार आज इस कंपनी में 50000 से भी अधिक लोगकाम कर रहे हैं।
Jack Ma द्वारा चीन के लोगो का विश्वास जीतने और उन्हें इंटरनेट पर व्यवसाय करना सिखाने के बाद अब ये कम्पनी दुनिया की वृहदतम कंपनियों में से एक बन चुकी है।
Alibaba को शुरुवाती दौर में  काफी मुश्किलों का सामना करना पड़ा। कोई उनपर विश्वास करने को तैयार नहीं था, लेकिन बाद में अक्टूबर 1999 तक, Alibaba ने गोल्डमैन सैक्स से 5 डॉलर  मिलियन और सॉफ्टबैंक से 20 मिलियन डॉलर जुटाए, यह एक जापानी दूरसंचार कंपनी जो IT कंपनियों में भी निवेश करती है। Alibaba, Suppliers और Buyers के बीच एक कड़ी का काम करता है।
हम आपको बता दें की  उस समय Alibaba के पास कोई online payment सिस्टम नहीं था। जिसके कारन Alibaba ग्रुप को लांच होने के 3 साल तक Alibaba ग्रुप को कोई भी रेवेन्यू ठीक से नहीं हुआ। इस समस्या को दूर करने के लिए 2004 में Jack Ma ने Alipay App लांच किया। Alipay एक थर्ड पार्टी मोबाइल और ऑनलाइन माध्यम है, जिसके द्वारा खरीदने वाले और बेचने वाले दोनों ही भुगतान करते है। आज 80 करोड़ लोग Alipay का उपयोग करते है। Alibaba Group Holding Ltd. , वॉल-मार्ट स्टोर्स को पार करने के बाद दुनिया का सबसे बड़ा खुदरा विक्रेता बन गया है।
Alibaba.com में तीन मुख्य खंड हैं, एक अंग्रेजी भाषा पोर्टल, Alibaba.com, जो आयातकों और निर्यातकों के बीच बिक्री को जोड़ता है। एक चीनी पोर्टल, 1688.com, जो चीन के देश के व्यापार के लिए एक मंच के रूप में कार्य करता है। और एक खुदरा वेबसाइट, AliExpress.com, जो थोक मूल्यों पर खरीदारों को छोटी मात्रा में उत्पाद से जोड़ती है।आज Alibaba ग्रुप का टर्नओवर 39.9 बिलियन us डॉलर है। Alibaba, 200 से अधिक देशों में परिचालन के साथ, दुनिया का सबसे बड़ा व्यापार-से-व्यापार का मंच बन गया है।
जैक मा अब अपना समय चीन में एजुकेशन के ऊपर देंगे। उन्होंने कहा कि अलीबाबा का सीईओ बनने से बेहतर है पढ़ाना। वे यह काम ज्यादा बेहतर तरीके से कर सकते हैं। जल्द ही, वे शिक्षक के रूप में दोबारा दिखेंगे। इसीलिए जैक मा ने बताया की वे 10 सितम्बर 2019 को अपना पद छोड़ देंगे। Mr Zhang उनकी जगह लेंगे।

जैक मा की शादी कब हुई थी ? When Did Jack Ma Get Married?

जैक मा ने ग्रेजुएशन कम्पलीट करने के बाद जब वो यूनिवर्सिटी में एक इंग्लिश टीचर के रूप में जब पढ़ा रहे थे। उसी दौरान 1980 में जैक मा ने सादी कर ली थी। अभी उनके दो बच्चे हैं। जिसमे एक लड़का  जिनका नाम Ma Yuankun और एक लड़की जिनका नाम Ma Yuanbao है।

जैक मा के सफलता के सूत्र – Jack Ma’s Success Formula

  • भविष्य में आपको भविष्य को देखकर निर्णय लेना चाहिए।
  • अपने बुरे दिनों में आपको बहुत अधिक फोकस्ड होना होता है और अपने दिमाग को स्थिर करना होता है ना कि अपनी ताकत पर। 
  • धैर्य का आपमें होना सबसे ज्यादा ज़रूरी है। 
  • जैक मा कहते हैं ,अवसर हमेशा आपके चुनौतियों के बीच छिपा रहता है और उन्हें ढूढ़ना भी आपका काम है।
  • दूसरों की सफलता से सीखने की बजाय उनकी गलतियों से सीखें। ज्यादातर लोग जो असफल होते हैं उनकी असफलता के कारण समान होते हैं जबकि सफलता की कई वजहों से मिल सकती है। 
  • पहले स्टेप लेना Problem को Solve करना सबसे अच्छा करने से बेहतर है।
  • आपको अपने Competitor से नफरत नहीं करना चाहिए। बल्कि उनसे सीखें।
  • यदि अगर आपके अंदर विश्वाश जग गया की आप कर सकते हैं, तो आप कर सकते हैं। चाहे और कोई दूसरा आप पर भरोसा या विश्वास करता हो या नही करता हो।
  • हम अपने अंदर काम करने वाले Employee को विश्वास, आदर, सम्मान और प्रोत्साहित कर के मोटीवेट कर सकते हैं। 
  • गुणवत्ता पर फोकस करे, न की संख्या पर, अगर आपके बिज़नेस का साइज बड़ा है, इसका मतलब यह नहीं है कि  आप Profit में हैं और खुश भी हैं। 
  • लीडर वो होता है जो हमेशा स्वीकरात्मक सोचता है। जब कोई नहीं सोचता ऐसा हो सकता।वो सोचता है ऐसा हो सकता है।
  • सपने को आप हमेशा जीवित रखे।
  • जीवन एक Journey है हिंदी में कहे तो एक यात्रा है। ये जीवन मिला है आनंद के लिए, तो आप स्वस्थ रहें और खुश रहें। 
धन्यबाद ।
0Shares

Leave a Reply

Your email address will not be published.