What is Software in Computer ?

Computer Mein Software Kya Hota Hai ?

वैसे कहा जाये तो मानव शरीर भी एक मशीन ही है और सायद हम कह सकते हैं की मानव शरीर की संरचना से ही आज कल हम जितने भी प्रकार के मशीन को देखते हैं, वे सभी मशीने को बनाई गई है या हम ये भी कह सकते हैं की तैयार की गई है। उन सभी मशीनो में से कंप्यूटर भी एक प्रकार की इलेक्ट्रॉनिक मशीन है जिस तरह मानव इंसान के हार्डवेयर आँख, कान, नाक, लिवर, किडनी आदि है, और सॉफ्टवेयर इंसान का दिमाग होता है उसी प्रकार कंप्यूटर के भी कुछ पार्ट्स होते हैं जिसमे एक हार्डवेयर और दूसरा सॉफ्टवेयर होता है।

What is Software ?

सॉफ्टवेयर, निर्देशों तथा प्रोग्राम्स का वह समूह है जो कम्प्यूटर को किसी कार्य विशेष को पूरा करने का निर्देश देता है। यह यूजर को कम्प्यूटर पर काम करने की क्षमता प्रदान करता हैं। सॉफ्टवेयर के बिना कम्प्यूटर हार्डवेयर का कोई महत्व नहीं है यह एक बक्सा मात्र हैं। यह कंप्यूटर हार्डवेयर की तरह नहीं होता है, यह एक आभासी वस्तु हैं जिसे केवल समझा जा सकता है। कंप्यूटर में software का बहुत बड़ा अभिनय-महत्व है। यदि किसी कम्प्युटर में सॉफ्टवेयर नहीं होगा तो वह कम्प्युटर किसी काम का नहीं होगा आप ये समझ लें की बिना पेंदा का लोटा, जो केवल लौह और अन्य धातुओं से बना एक बक्सा मात्र रह जाएगा।

wht-is-computer-software

जरा सोंच कर देखिये यदि आपके कम्प्यूटर में ब्राउजर प्रोग्राम नही होता तो आप इस लेख को नही पढ़ सकते थे।  इसी बात से आप सॉफ्टवेयर का महत्व का अंदाजा लगा सकते हैं। इसके अलावा MS Office, जैसे MS -word, MS-Excel, MS-Power Point, Photoshop, CorelDraw, Illustrator, Adobe Reader, Accounting Software जैसे Tally, Busy आदि सभी विभिन्न प्रकार के Software हैं, जो आपको Computer पर अलग-अलग कार्य करने के योग्य बनाते हैं।

Computer Mein Software Kya Kam Karta Hai or Kaise Karta Hai ?

हम आपको बता दें की जिस तरह मानव शरीर का दिमाग जैसे किसी भी काम को करने के लिए बताता है की कैसे उस को करना है उसी प्रकार कंप्यूटर मशीन में भी होता है। कंप्यूटर में सॉफ्टवेयर निर्देशों, डेटा या प्रोग्राम का एक सेट है जो अपने कंप्यूटर को बताता है कि कैसे काम करना है। हम आपको बता दें की आप अभी इस लेख को एक Software पर ही पढ़ रहे हैं। हाँ जी, आपने सही पढ़ा, जिसका नाम हैं वेब ब्राउजर ( Web Browser ) जैसे, Google Chrome, Firefox, Internet Explorer, इत्यादि । हम आपको बता दें की कम्प्यूटर पर किसी विशेष कार्य को करने के लिए सॉफ्टवेयर की जरूरत पड़ती है। What is History of Computer ? Computer को अपना कार्य करने के लिए कुछ सहायक उपकरणों तथा प्रोंग्राम्स की जरूरत होती है, क्योंकि Computer जो है वो अपना कार्य अकेला नही कर सकता है। ये उपकरण तथा प्रोंग्राम्स ही Computer को कार्य करने लायक बनाते है। 

सॉफ्टवेयर के विभिन्न प्रकार – Types of Software

हम आपको बता दें की कम्प्यूटर का उपयोग अलग-अलग कार्यों के लिए करते हैं। ये सभी प्रकार के कार्य केवल एक सॉफ्टवेयर की मदद से पूरे नही किये जा सकते हैं। इसलिए कार्य की जरुरत के हिसाब से अलग-अलग प्रकार के  सॉफ्टवेयर बनाये जाते हैं। हम आप को बता दें की सॉफ्टवेयर अध्ययन की सुविधा के लिए दो मुख्य वर्ग में बनाए हैं। जिसमे,

(1) System Software   

(2) Application Software

1. System Software

सिस्टम सॉफ्टवेयर एक प्रकार का कंप्यूटर प्रोग्राम है जिसे कंप्यूटर के हार्डवेयर और एप्लिकेशन प्रोग्राम को चलाने के लिए डिज़ाइन किया गया है। यदि हम कंप्यूटर सिस्टम को एक स्तरित मॉडल के रूप में सोचते हैं, तो सिस्टम सॉफ़्टवेयर हार्डवेयर और उपयोगकर्ता अनुप्रयोगों के बीच का इंटरफ़ेस है। हम आपको बता दें की OS यानि ऑपरेटिंग सिस्टम, सिस्टम सॉफ्टवेयर का एक सबसे प्रसिद्ध उदाहरण है। OS यानि Operating System कंप्यूटर के अन्य सभी प्रोग्राम को मैनेज करता है। और Hardware एवं Software के बीच क्रिया करने देता है। कंप्यूटर को स्वयं प्रबंधित करने के लिए सिस्टम सॉफ़्टवेयर का उपयोग किया जाता है। अनिवार्य रूप से, सिस्टम सॉफ़्टवेयर एप्लिकेशन सॉफ़्टवेयर को शीर्ष पर चलाने के लिए एक मंच प्रदान करता है। यह पृष्ठभूमि में चलता है, कंप्यूटर के बुनियादी कार्यों को बनाए रखता है ताकि उपयोगकर्ता कुछ कार्यों को करने के लिए उच्च-स्तरीय एप्लिकेशन सॉफ़्टवेयर चला सकें।

Important Features of System Software-सिस्टम सॉफ्टवेयर की महत्वपूर्ण विशेषताएं

हम आपको बता दें की कंप्यूटर निर्माता आमतौर पर सिस्टम सॉफ्टवेयर को कंप्यूटर के अभिन्न अंग के रूप में विकसित करते हैं। और इस सॉफ़्टवेयर की प्राथमिक ज़िम्मेदारी उनके द्वारा निर्मित कंप्यूटर हार्डवेयर और अंतिम उपयोगकर्ता के बीच एक इंटरफ़ेस बनाना होता है।

सिस्टम सॉफ्टवेयर में आम तौर पर निम्नलिखित विशेषताएं शामिल होती हैं। निचे पढ़ें।

निम्न-स्तरीय कंप्यूटर भाषा में लिखा गया है। सिस्टम सॉफ्टवेयर एक कंप्यूटर भाषा में लिखा जाना चाहिए जिसे सेंट्रल प्रोसेसिंग यूनिट ( CPU – Central Processing Unit ) और अन्य कंप्यूटर हार्डवेयर पढ़ सकते हैं।

सिस्टम के करीब। यह सीधे उस हार्डवेयर से जुड़ता है जो कंप्यूटर को चलाने में सक्षम बनाता है।

तीव्र गति। कंप्यूटर सिस्टम में उच्च-स्तरीय सॉफ़्टवेयर के लिए एक प्रभावी प्लेटफ़ॉर्म प्रदान करने के लिए सिस्टम सॉफ़्टवेयर को यथासंभव कुशल होना चाहिए।

हेरफेर करना मुश्किल है। इसे अक्सर एक प्रोग्रामिंग भाषा के उपयोग की आवश्यकता होती है, जो कि अधिक सहज उपयोगकर्ता इंटरफ़ेस (UI – User Interface) की तुलना में उपयोग करना अधिक कठिन होता है।

बहुमुखी । सिस्टम सॉफ़्टवेयर को अन्य प्रोग्रामों का भी समर्थन करना चाहिए जो उस पर निर्भर करते हैं क्योंकि वे विकसित होते हैं और बदलते हैं। सिस्टम सॉफ़्टवेयर को उस विशेष हार्डवेयर के साथ संचार करना चाहिए जिस पर वह चलता है और उच्च-स्तरीय एप्लिकेशन सॉफ़्टवेयर जो आमतौर पर हार्डवेयर-अज्ञेयवादी होता है और अक्सर उस हार्डवेयर से कोई सीधा संबंध नहीं होता है जिस पर वह चलता है।

Types of System Software

System Software डिस्क ऑपरेटिंग सिस्टम (DOS), फाइल मैनेजमेंट यूटिलिटी सॉफ्टवेयर (FMUS) और ऑपरेटिंग सिस्टम (OS) सहित कंप्यूटर के बुनियादी कार्यों का प्रबंधन करता है।

System Software के कई प्रकार हैं। सिस्टम सॉफ्टवेयर के उदाहरण निम्नलिखित शामिल हैं।

1. Operating System

कंप्यूटर का OS ऑपरेटिंग सिस्टम सॉफ्टवेयर का एक जाना-माना उदाहरण है। व्यापक रूप से उपयोग किए जाने वाले ऑपरेटिंग सिस्टम में माइक्रोसॉफ्ट विंडोज, मैकओएस और लिनक्स (Lynux) शामिल हैं। Operating System यह हमारे इनपुट निर्देशो को कम्प्यूटर को समझाता है। ऑपरेटिंग सिस्टम एक ऐसा कम्प्यूटर प्रोग्राम होता है जो अन्य कम्प्यूटर प्रोग्रामों का संचालन करता है। ऑपरेटिंग सिस्टम यूजर तथा कम्प्यूटर के बीच मध्यस्थ का कार्य करता है। 

Types of Operating System-ऑफ़ ऑपरेटिंग सिस्टम के प्रकार 

ऑपरेटिंग सिस्टम भी कई प्रकार के होते हैं,  निम्नलिखित हैं।

Windows OS, Mac OS, Linux, UBUNTU, Android ये सभी ऑपरेटिंग सिस्टम हैं।

2. Utility Programs

उदाहरण के लिए Disk Defragmenter, Anti Virus प्रोग्राम आदि Utility प्रोग्राम है। यूटिलिटी यह कम्प्यूटर संसाधनों के प्रबंधन तथा सुरक्षा का कार्य करते है. लेकिन, इनका Hardware से सीधा संम्पर्क नही होता है। हम आपको बता दें की Utilities को सर्विस प्रोग्राम के नाम से भी जाना जाता है।

3. A Device Driver

उदाहरण के लिए ये सभी ड्राइवर्स हैं जैसे की Audio Drivers, Graphic Drivers, Motherboard Drivers आदि। Driver एक विशेष प्रोग्राम होता है जो कंप्यूटर से संचार करने के लिए इनपुट और आउटपुट उपकरणों को कम्प्यूटर से जोड़ता है।

4. A  Assembler

बुनियादी कंप्यूटर निर्देश लेता है और उन्हें बिट्स के एक पैटर्न में परिवर्तित करता है जिसका उपयोग कंप्यूटर का प्रोसेसर अपने बुनियादी कार्यों को करने के लिए कर सकता है।

5. The Boot Program

बूट प्रोग्राम OS यानि ऑपरेटिंग सिस्टम को कंप्यूटर की मुख्य मेमोरी या रैंडम एक्सेस मेमोरी (RAM) में लोड करता है।

2. Application Software

Application Software को संछिप्त यानि की शार्ट फॉर्म में इसे ‘Apps’ भी कहते हैं। इसका सीधा सम्बन्ध यूजर से होने के कारन इसे End User सॉफ़्टवेयर भी कहा जा सकता है। Application Software उपयोक्ता को यानि यूजर को किसी विशेष कार्य को करने कि आजादी देते हैं। Application Software के भी कई प्रकार होते हैं।

1. Basic Application

Basic Applications का उपयोग हम रोजमर्रा के कार्यों के लिए करते हैं। यह सामान्य इस्तेमाल के सॉफ़्टवेयर होते हैं। इसीलिए इसे सामान्य उद्देशीय सॉफ़्टवेयर (General Purpose Software) भी कहा जाता है। किसी भी कम्प्यूटर यूजर को कम्प्यूटर मशीन पर कार्य करने के लिए Basic Application का इस्तेमाल आना अनिवार्य है। उदाहरण के रूप में नीचे कुछ General Purpose Software के नाम कुछ इस प्रकार से हैं।

  • WPP – Word Processing Programs
  • MP – Multimedia Programs
  • DTP – Desktop Programs
  • SP – Spreadsheet Programs
  • PP – Presentation Programs
  • GA – Graphics Application
  • WDA – Web Design Application

2 Specialized Application

Specialized Application का इस्तेमाल भी किसी कार्य विशेष को करने के लिए होता है। इस प्रकार के सॉफ़्टवेयरस को किसी खास उद्देश्य के लिए बनाया जाता है। इसीलिए इसे विशेष उद्देशीय सॉफ़्टवेयर (Special Purpose Software) भी कहा जाता हैं। उदाहरण के रूप में नीचे कुछ विशेष उद्देश्य के लिए बनाये गए प्रोग्राम्स के नाम दिए जा रहे हैं, जो निम्नलिखित हैं।

  • Report Card Generator
  • Reservation System
  • Payroll Management System
  • Accounting Software
  • Billing Software

हमे उम्मीद है कि यह लेख आपको पसंद आएगा और आपके लिए उपयोगी साबित होगा। यदि आपको सॉफ्टवेयर के बारे में कुछ भी समझ ना आए तो आप हमें कमेंट करके पूछ सकते हैं। लेख को लाइक शेयर जरूर करें ताकि अधिक से अधिक लोगो को जानकारी मिल सके। धन्यबाद। 

0Shares

Leave a Reply

Your email address will not be published.