About Independence Day in Hindi-Essay on 15 August

15 August स्वतंत्रता दिवस : भारत हर साल 15 अगस्त को अपना स्वतंत्रता दिवस मनाता है। स्वतंत्रता दिवस हमें उन सभी बलिदानों की याद दिलाता है जो हमारे स्वतंत्रता सेनानियों द्वारा भारत को ब्रिटिश शासन से मुक्त करने के लिए किए गए थे। (About Independence Day in Hindi-Essay on 15 August) भारत 200 वर्ष अंग्रेजों के गुलाम रहे और फिर 15 अगस्त 1947 को, भारत को ब्रिटिश उपनिवेशवाद से स्वतंत्र घोषित किया गया और यह दुनिया का सबसे बड़ा लोकतंत्र बन गया। स्वतंत्रता दिवस पर इस निबंध में, छात्रों को भारत के स्वतंत्रता इतिहास के सभी महत्वपूर्ण विवरण मिलेंगे। वे अपनी परीक्षा की तैयारी के लिए इसका उल्लेख कर सकते हैं क्योंकि निबंध ज्यादातर सभी बोर्ड exके पेपर में पूछे जाते हैं। साथ ही, वे इस निबंध का उपयोग स्कूल में स्वतंत्रता दिवस समारोह के लिए भाषण के रूप में भी कर सकते हैं।

15-august-independence-day-essay-swatantrata-diwas

Independence Day Essay-स्वतंत्रता दिवस निबंध

स्वतंत्रता दिवस : 15 अगस्त को ध्वजारोहण, परेड और सांस्कृतिक कार्यक्रमों के साथ राष्ट्रीय त्योहार के रूप में मनाया जाता है।

Essay on Independence Day (15 August) in Hindi : स्कूल, कॉलेज, कार्यालय, समाज परिसर, सरकारी और निजी संगठन समारोह आयोजित करते हैं और इस दिन को बहुत उत्साह के साथ मनाते हैं। इस दिन, भारत के प्रधान मंत्री लाल किले पर झंडा फहराते हैं और भाषण द्वारा राष्ट्र को संबोधित करते हैं। दूरदर्शन पूरे कार्यक्रम का टेलीविजन पर सीधा प्रसारण करता है। 15 अगस्त 1947 को प्रधानमंत्री पंडित जवाहरलाल नेहरू ने पहला झंडारोहण समारोह किया था। (About Independence Day in Hindi-Essay on 15 August ) स्वतंत्रता दिवस हमारे देश के जन्मदिन की तरह है। हम हर साल 15 अगस्त को स्वतंत्रता दिवस के रूप में मनाते हैं। इसे पूरे देश में राष्ट्रीय अवकाश के रूप में मनाया जाता है। इसे हमारे देश के इतिहास में लाल अक्षर का दिन कहा जाता है।

स्वतंत्रता दिवस का इतिहास – History of Independence Day

अंग्रेजों ने भारत में लगभग 200 वर्षों तक शासन किया है। ब्रिटिश शासन के तहत, लोगों का जीवन दयनीय था। भारतीयों के साथ गुलाम जैसा व्यवहार किया जाता था और उन्हें उनसे कुछ भी कहने का कोई अधिकार नहीं था। भारतीय शासक ब्रिटिश अधिकारियों के हाथों की कठपुतली मात्र थे। ब्रिटिश शिविरों में भारतीय सैनिकों के साथ अमानवीय व्यवहार किया जाता था, और किसान भूख से मर रहे थे क्योंकि वे फसल नहीं उगा सकते थे और उन्हें भारी भूमि कर देना पड़ता था।

हमारे स्वतंत्रता सेनानियों ने भारत की आजादी के लिए संघर्ष किया। महात्मा गांधी, सुभाष चंद्र बोस, भगत सिंह, सरदार वल्लभभाई पटेल, जवाहरलाल नेहरू, रानी लक्ष्मी बाई, मंगल पांडे, दादा भाई नौरोजी जैसे प्रसिद्ध नेताओं ने अंग्रेजों के खिलाफ निडर होकर लड़ाई लड़ी। उनमें से कई ने भारत को ब्रिटिश शासन से मुक्त कराने के लिए अपने प्राणों की आहुति भी दे दी। उनके योगदान और प्रयास को भारत के स्वतंत्रता इतिहास में याद किया जाता है।

15 अगस्त – स्वतंत्रता दिवस के इस विशेष अवसर पर, भारत के लोग भारत की स्वतंत्रता को प्राप्त करने के लिए महान पुरुषों और महिलाओं के निस्वार्थ बलिदान और अद्वितीय योगदान को याद करते हैं। महात्मा गांधी, जवाहरलाल नेहरू, सुभाष चंद्र बोस, मौलाना अब्दुल कलाम आजाद, सरदार पटेल और गोपालबंधु दास जैसे नेताओं को पूरे देश में श्रद्धापूर्वक श्रद्धांजलि दी जाती है।

कई महिलाओं ने भारतीय स्वतंत्रता आंदोलन में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई है। सावित्रीबाई फुले, महादेवी वर्मा, कैप्टन लक्ष्मी सहगल, रानी लक्ष्मीबाई और बसंती देवी कुछ महत्वपूर्ण नाम हैं जिन्हें याद रखना चाहिए। इन महिलाओं ने कई अन्य लोगों के साथ मिलकर भारत को स्वतंत्रता की ओर ले जाने में प्रमुख भूमिका निभाई।

भारत में हम स्वतंत्रता दिवस क्यों मनाते हैं? – Why Do We Celebrate Independence Day?

वर्षों के संघर्ष के बाद भारत को आजादी मिली। भारत को अंग्रेजों से पूर्ण स्वतंत्रता मिली और 15 अगस्त 1947 को पूर्ण स्वायत्तता प्राप्त हुई। इसलिए यह दिन भारत या विदेश में रहने वाले प्रत्येक भारतीय नागरिक के दिल में बहुत महत्व रखता है। भारत ने 15 अगस्त 2020 को स्वतंत्रता के 73 वर्ष पूरे किए। यह दिन हमें स्वतंत्रता सेनानियों के संघर्षों और स्वतंत्रता प्राप्त करने में उनके द्वारा बलिदान किए गए जीवन की भी याद दिलाता है। हमारे वीरों ने जिस दर्द से गुज़रा है, वह हमें याद दिलाता है कि आज हम जिस आज़ादी का आनंद ले रहे हैं, वह लाखों लोगों का खून बहाकर हासिल की है। यह भारत के प्रत्येक नागरिक के अंदर देशभक्ति की भावना को भी जगाता है। यह वर्तमान पीढ़ी को उस समय के लोगों के संघर्षों को करीब से समझती है और उन्हें भारत के स्वतंत्रता सेनानियों से परिचित कराती है।

स्वतंत्रता दिवस का महत्व – Significance of Independence Day

स्वतंत्रता दिवस देश के लिए एक सकारात्मक घटना है। हम दुनिया के सबसे बड़े लोकतांत्रिक देश का हिस्सा होने पर गर्व महसूस करते हैं, जहां सत्ता आम आदमी के हाथ में है। स्वतंत्रता दिवस लोगों में देशभक्ति की भावना पैदा करता है। यह लोगों को एकजुट करता है और उन्हें यह महसूस कराता है कि हम एक राष्ट्र हैं जहां कई अलग-अलग भाषाएं, धर्म और सांस्कृतिक मूल्य हैं। अनेकता में एकता भारत का प्रमुख सारतत्व और शक्ति है। हम उस ग्रह पर सबसे बड़े बहुमत वाले शासन वाले देश का हिस्सा बनकर प्रसन्न महसूस करते हैं, जहां हम लोकतंत्र में रहते हैं।

स्वतंत्रता दिवस एक राष्ट्रीय अवसर है और सभी दुकानें, कार्यस्थल, स्कूल और विश्वविद्यालय बंद रहते हैं। यह दिन स्वतंत्रता सेनानियों और देशभक्तों के लिए एक प्रतीक है जिन्होंने अपने जीवन का बलिदान दिया ताकि हम एक स्वतंत्र भूमि का अनुभव कर सकें और रह सकें। इस दिन कई स्कूलों और अन्य संस्थानों में तिरंगा फहराया जाता है। कुछ उल्लेखनीय व्यक्ति, या स्कूल प्रमुख, सभा को संबोधित करते हैं। शाम के समय, इस दिन को सम्मानित करने के लिए सभी महत्वपूर्ण सरकारी संरचनाओं को अच्छी तरह से रोशन किया जाता है।

स्वतंत्रता दिवस पर अक्सर पूछे जाने वाले प्रश्न निबंध

1. प्रश्न : स्वतंत्रता या आजादी का क्या अर्थ है?

1. उत्तर : स्वतंत्रता या आजादी का अर्थ है बिना किसी नियंत्रण या प्रभाव के किसी भी प्रकार की कार्रवाई की स्वतंत्रता।

2. प्रश्न : हमारा देश भारत अपनी स्वतंत्रता कब मनाता है?

2. उत्तर : 15 अगस्त 1947 को भारत को एक स्वतंत्र राष्ट्र घोषित किया गया था।

3. प्रश्न : भारत के कुछ स्वतंत्रता सेनानियों के नाम बताइए?

3. उत्तर : 1. मोहनदास करमचंद गांधी (महात्मा गाँधी) 2. नेताजी सुभाष चंद्र बोस 3. भगत सिंह 4. सरोजिनी नायडू 5. रानी लक्ष्मीबाई

हमें उम्मीद है कि छात्रों को स्वतंत्रता दिवस पर यह निबंध पढ़ने में दिलचस्प और उनकी पढ़ाई के लिए मददगार लगा होगा। इसे अपने दोस्तों और रिश्तेदारों के साथ या सोशल प्लेटफॉर्म पर शेयर जरूर करें ताकि सबको इस लेख से मदद मिल सके । धन्यवाद।

0Shares

Leave a Reply

Your email address will not be published.